क्यूँ दिल चुरा रही हो हस हसके बार बार

हिंदी फ़िल्में > आशिक(१९९४) के गाने > क्यूँ दिल चुरा रही हो हस हसके बार बार

गाना: क्यूँ दिल चुरा रही हो हस हसके बार बार
फिल्म: आशिक(१९९४)
गायक:
गीत:
संगीत:


क्यूँ दिल चुरा रही हो हस हसके बार बार, बार बार, बार बार 
जुल्फो को गोरे गाल पे बिखराके बार बार, बार बार, बार बार 
सूरत यह हमें आपकी इतनी है पसंद - (2)
जी चाहता है आपको हम देखे बार बार, बार बार, बार बार 
क्यूँ दिल चुरा रही हो हस हसके बार बार, बार बार, बार बार 

आँचल जो आपका उड़ने लगा -2, दिल यह हमारा मचलने लगा ओ 
आपकी शरारत रंग लाएगी -2, आपसे मोहब्बत हो जायेगी 
रोका है किसने आपको मोहब्बत कीजिये - (2) 
सड़को पे खुल्लम खुल्ला आप हमसे बार बार, बार बार, बार बार 
क्यूँ दिल चुरा रही हो हस हसके बार बार, बार बार, बार बार
 
फुर्सत से रब ने बनाया तुम्हे -2, फूलो के रंग से सजाया तुम्हे 
मुझे खाब दिन में दिखाओ ना तुम -2 चलो झूटी बाते बनाओ ना तुम 
यह सच है जानेमन कोई झूट नाही - (2) 
ना हो याकि तो पूछ लो लोगो से बार बार, बार बार, बार बार 
क्यूँ दिल चुरा रही हो हस हसके बार बार, बार बार, बार बार 

हाय कमर तोह देखो पतली पतली, लड़की है यह सुन्दर कितनी -(2) 
अरे ठुमके लगाके हाय हाय होय होय 
अरे ठुमके लगाके चलोगी अगर, हा हा चलोगी अगर 
बलखा जायेगी पतली कमर - (2) 
यह मर्जी हमारी आय हाय, ओय होय 
यह मर्जी हमारी चले जिस तरह, हा हा चले जिस तरह 
क्या हो जाएगा बोलो जरा - (2) 
झटके है इतने जालिम आपके सनम - (2) 
हो जायेंगे सब घायल इस अदा पे बार बार, बार बार, बार बार 
क्यूँ दिल चुरा रही हो हस हसके बार बार, बार बार, बार बार 

जुल्फो को गोरे गाल पे बिखराके बार बार, बार बार, बार बार 
सूरत यह हमें आपकी इतनी है पसंद - (2) 
जी चाहता है आपको हम देखे बार बार, बार बार, बार बार