शादी का लड्डू ऐसा कैसा कैसा जो खाए ओ पछताये

हिंदी फ़िल्में > अंजाम के गाने > शादी का लड्डू ऐसा कैसा कैसा जो खाए ओ पछताये

गाना: शादी का लड्डू ऐसा कैसा कैसा जो खाए ओ पछताये
फिल्म: अंजाम
गायक:
गीत:
संगीत:


सुन मेरी बन्नु, सुन सुन मेरी बन्नु – (2)
(शादी का लड्डू ऐसा कैसा कैसा जो खाए ओ पछताये 
जो ना खाए ओ ललचाये) – (2)
सुन मेरी बन्नो 

बीवी कितनी भी हो खुबसूरत कुछ दिन ही पिया मनं भाए – (2)
कर के ना जाने कितने बहाने जा के शौहर का दिल बहलाए 
यहाँ किस्क हुयी है शादी कहते हैं इसे बर्बादी – (2)
सोच के मेरा दिल घबराए 
जो खाए ओ पछताये जो ना खाए ओ ललचाये – (2)


सारा दिन फिरते है मारे मारे ना गुजरती कुंवारों की राते – (2) 
यह बताये तो किस को बताये, दिल में होती हाजारो ही बाते 
इनका तो यह ही है कहना मुश्किल है कंवारा रहना
नींद अकेले ना आये 
जो खाए ओ पछताये जो ना खाए ओ ललचाये – (2)
सुन मेरी बन्नु, सुन सुन मेरी बन्नु – (2)
(शादी का लड्डू ऐसा कैसा कैसा जो खाए ओ पछताये 
जो ना खाए ओ ललचाये) – (2)