ओ अनमोल प्यार बिन मोल बीके

हिंदी फ़िल्में > बादल - १९५१ के गाने > ओ अनमोल प्यार बिन मोल बीके

गाना: ओ अनमोल प्यार बिन मोल बीके
फिल्म: बादल - १९५१
गायक: लता मंगेशकर
गीत: शैलेन्द्र
संगीत: शंकर-जयकिशन


ओ अनमोल प्यार बीन मोल बीके -२, (इस दुनिया के बाजार में -२)
ओ इन्सान और इमान बीके -२, (इस दुनिया के बाजार में -२)
ओ अनमोल प्यार बीन मोल बीके

खिलते ही इस फुलवारी में, (प्यार की कालिया जल जाती हैं -२)
दिल की दिल में राह जाती है, (चांदनी राते ढल जाती हैं -२)
कितने ही संसार उजाड़ जाते हैं इस संसार में - (२)
इस दुनिया के बाजार में, ओ अनमोल प्यार बीन मोल बीके
दिन के उजाले में भी कोई, (हमको लुट के चल देता है -२)
प्यार भरा अरमान भरा यह, (दिल पैरों से कुचल देता है -२)
चमन हमारी उम्मीदों के सूखे भरी बहार में - (२)
इस दुनिया के बाजार में, ओ अनमोल प्यार बीन मोल बीके

धन दौलत के दूध पे हमने, पाप के सांप को पलते देखा - (२)
उलटी रित की इस दुनिया में, (सुबह को सूरज ढलते देखा -२)
बोल यही इंसाफ है क्या मालिक तेरे दरबार में - (२)
इस दुनिया के बाजार में, ओ अनमोल प्यार बीन मोल बीके -२