हसने की चाह ने इतना मुझे रुलाया है

हिंदी फ़िल्में > आविष्कार के गाने > हसने की चाह ने इतना मुझे रुलाया है

गाना: हसने की चाह ने इतना मुझे रुलाया है
फिल्म: आविष्कार
गायक: मन्ना देय
गीत: कपिल कुमार
संगीत: कनु रॉय


हसने की चाह ने इतना मुझे रुलाया है 
कोई हमदर्द नहीं दर्द मेरा साया है 

दिल तोह उलझा ही रहा जिंदगी की बातो में 
सांसे जलती हैं कभी कभी रातो में 
किसी की आहटे ये कौन मुस्कुराया है 
कोई हमदर्द नहीं दर्द मेरा साया है

सपने चलते ही रहे रोज नयी राहो से कोई फिसला है
अभी अभी बाहो से किसी की आह पर तारो को प्यार आया है 
कोई हमदर्द नहीं दर्द मेरा साया है