बोलो बेईमान की जय

हिंदी फ़िल्में > बेईमान के गाने > बोलो बेईमान की जय

गाना: बोलो बेईमान की जय
फिल्म: बेईमान
गायक: मुकेश
गीत: वर्मा मलिक
संगीत: शंकर-जयकिशन


बोलो बेईमान की जय बेईमान की जय  - (२)
ना इज्जत की चिंता ना फ़िक्र किसी अपमान की
जय बोलो बेईमान की जय बोलो  - (२)
ना इज्जत की चिंता......
जय बोलो, जय बोलो बेईमान की

बेईमान के बिना मतरे होते अक्सर चार
बी से बदकारी इ से इर्ष्य म से बने मक्कार
ना से नमक हरामी समझो हो गए पुरे चार
चार गुनाह मिल जाएँ होता बेईमान तैयार
अरे उससे आँख मिलाये क्या हिम्मत है शैतान की
जय बोलो बेईमान की.....

भोला मुखड़ा उजाले कपडे मनं है काला काला
जिसकी दया से मंदिर चलते है आबाद शिवाला
खुश करता भगवान को देखो घंटा बजा बजा कर
नित मंदिर में पूजा करता दीपक जला जला कर
अन्दर भगवान की जय हो और बहार बेईमान की
जय बोलो बेईमान की.......

बेईमानी से ही बनाते हैं बंगले बाग बगीचे
सर से ऊपर पंखे चलते पांव तले गलीचे
रित रिवाज धरम और मजहब दब जाते हैं निचे
बेईमान सबसे आगे और दुनिया पीछे पीछे
मेहनत से बने ना कुतिया अरे छोडो बात माकन की
जय बोलो बेईमान की.......

सेठ भी असली, पेट भी असली नकली माल बनाये
ऊपर असली लेबल अन्दर नकली घी और चाय
पोप्लेने का बदल के नंबर तेरे लेने बनाये
या बेईमानी तेरा आसरा बोल के लुटता जाये
अरे अपने देश का कपडा और लगी है मुहर जपान की
जय बोलो बेईमान की.......

वृन्दावन के हम सन्यासी काम है चलते रहना
मौका है तक़दीर बना लो हाथ ना मलते रहना
हाथ की चूड़ी पांव की पायल या हो गले का गहना
मर के मंतर दुगना कर दें माने अगर तू कहना
दो दिन पीछे खोलो लीला देखो भगवान की
जय बोलो भगवान की जय बोलो
जय बोलो भाई जय बोलो भगवान की जय बोलो

पूरी सीट पर जटाजूट संग हैं महाराज पधारे
चिमटा चरस चिलम और चेले साथ साथ हैं सारे
टिकटे लेकर भी गाड़ी में खड़े शरीफ बेचारे
और यह देखो भगवान के चमचे पड़े है पांव पसरे
बिना टिकट यात्रा करते देखो तीर्थ स्थान की
जय बोलो बेईमान की.......