अपनी तोह हर आह एक तूफान हैं

हिंदी फ़िल्में > काला बाज़ार के गाने > अपनी तोह हर आह एक तूफान हैं

गाना: अपनी तोह हर आह एक तूफान हैं
फिल्म: काला बाज़ार
गायक: मोहम्मद रफ़ी
गीत: शैलेन्द्र
संगीत: एस डी बर्मन


अपनी तोह हर आह एक तूफान हैं 
क्या करे वोह जन कर अनजान हैं 
उपरवाला जन कर अनजान हैं 

अब्ब तोह हसके अपनी भी किस्मत को चमका दे 
कानो मी कुछ कह दे, जो इस दिल को बहला दे 

येह भी मुश्किल हैं, तोह क्या आसन है 

सर पे मेरे तू जो अपना हाथ ही रख दे 
फिर तोह भटके रही को मिल जायेंगे रस्ते 
दिल की बस्ती बिन तेरे वीरान है 


दिल तोह है इसने शायद भूल भी की है 
जिन्दगी है भुलाकर ही राह मिलाती है 
माफ़ कर बंद भी एक इन्सान है