जाने क्यों सावन के रुत में

हिंदी फ़िल्में > याद पिया की आई के गाने > जाने क्यों सावन के रुत में

गाना: जाने क्यों सावन के रुत में
फिल्म: याद पिया की आई
गायक: भूपिंदर सिंह, मिताली सिंह, सुहेल खान
गीत:
संगीत:


बागो में जब चंचल पंच्ची प्यार के नगमे गाते हैं 
जाने क्यों सावन के रुत में जख्म हर इ हो जाते है - (2)
शायद येह बादल के तुकडे तेरे गाँव से आते हैं 
भूली बिसरी बाते मण ही मण हम दोहराते हैं 

पायल बजने की आवाजे घुल जाती है साँसों में 
रिम झिम रिम झिम काले मेघा जग पानी बरसाते हैं 
जब पानी बरसाते हैं 
पर्वत की चोटी पर अपनी आँचल को लहराते हैं 
शायद येह बादल के तुकडे तेरे गाँव से आते हैं 
जाने क्यों सावन के रुत में जख्म हरे हो जाते है 

प्यार मोहब्बत के अफ़साने पगली कोयल क्या जाने 
कुक से दिल में ?हुक उठी हैं (कुक हम घबराते हैं -2)
दिल हमको बहलाता है, और हम दिल को बहलाते हैं 
शायद येह बादल के तुकडे तेरे गाँव से आते हैं 
जाने क्यों सावन के रुत में जख्म हरे हो जाते है