अगर आसमान तक मेरा हाथ जाता

हिंदी फ़िल्में > नाराज़ के गाने > अगर आसमान तक मेरा हाथ जाता

गाना: अगर आसमान तक मेरा हाथ जाता
फिल्म: नाराज़
गायक: अलका याग्निक, मुकुल अगरवाल
गीत:
संगीत: अनु मालिक


(अगर आसमान तक मेरा हाथ जाता 
तोह तेरे माथे पे चंदा की बिंदिया लगाता 
तेरी मांग तारो से मै सजाता 

अगर आसमान तक मेरा हाथ जाता 
तोह चांदनी से सेहरा बनाती 
मुहब्बत की धड़कन से उसको सजती 
मै खुद अपने हाथों से तुमको पहनती 
अगर आसमान तक 

मेरे पास दिल के सिवा कुछ नहीं है 
जमाने मे दिल से बड़ा कुछ नहीं है 
तोह फिर आ तुझे अपने दिल मे बसा लू 
तुझे अपने हाथो की रेखा बना लू 
अगर येह समंदर मेरे बस मे होता 
मुहब्बत का मोटी मै इसमे से लाती 
सुन मेरे साजन सुन मेरे साथी 
अगर आसमान तक 

अगर तुझसे बिछादु तोह मर जाऊ सनम 
कसम तुझको मेरी ना बोल ऐसा हमदम 
क्या है तमन्ना तेरी मेरे साजन 
रहू तेरे दिल मे तेरी बनके धड़कन 
अगर येह जहां मेरी मुट्ठी मे आता 
तोह तुझपर से कुर्बान करके लुटाता 
अगर आसमान तक