एक लड़की थी कितनी शर्मीली

हिंदी फ़िल्में > लव यू हमेशा के गाने > एक लड़की थी कितनी शर्मीली

गाना: एक लड़की थी कितनी शर्मीली
फिल्म: लव यू हमेशा
गायक: कविता कृष्णामूर्ति
गीत:
संगीत:


एक लडक इ थी कितनी शर्मीली, होगई रे मैं कैसी रंगीली - २ 
नागिन बनके मुझसे लिपट गयी मेरी चुनरिया नीली पीली - २ 
एक लड़की थी कितनी शर्मीली, होगई रे मैं कैसी रंगीली 

मेरे बचपन छोड़ दे बैयाँ 
मेरा यौवन, मेरा सैयां 
हाथ मैं उसके हाथ मैं देदूं 
आगे जीवन भूल भुलैयां 
दिल की गलियों में आये बंजारे 
बेच रहे वोह सपने कुंवारे 
छेड़े किसने बंसी पे धुन सुरीली 
एक लड़की थी कितनी शर्मीली, होगई रे मैं कैसी रंगीली 

छान छान चुदियाँ हाथों में 
खान खान पायलें रातों में 
छान छान जल गयी रे बरसातों में 
आ गयी दिल की बातों में 
चुदियाँ हाथों में खान खान 
पायलें रातों में छान छान 
जल गयी रे बरसातों में 
आ गयी दिल की बातों में 

नाम का सावन बूँद बूँद बरसे 
पथ्झाद जैसा यह मनन तरसे 
कैसे बदन में आग लग गयी यह 
मैं तो आ गे इ बहार घर से 
तारे बद्र तू मुझको भिगो दे 
डूब जाऊं मैं, मुझको डुबो दे 
कैसी प्यारी रूठ है यह मीठी सुरीली 
एक लड़की थी कितनी शर्मीली, होगई रे मैं कैसी रंगीली - २ 
नागिन बनके मुझसे लिपट गयी मेरी चुनरिया नीली पीली - २ 
एक लड़की थी कितनी शर्मीली, होगई रे मैं कैसी रंगीली 

छान छान चुदियाँ हाथों में 
खान खान पायलें रातों में 
छान छान जल गयी रे बरसातों में 
आ गयी दिल की बातों में 
चुदियाँ हाथों में खान खान 
पायलें रातों में छान छान 
जल गयी रे बरसातों में 
आ गयी दिल की बातों में 
चुदियाँ हाथों में खान खान