फिर से उड़ चला

हिंदी फ़िल्में > रॉकस्टार के गाने > फिर से उड़ चला

गाना: फिर से उड़ चला
फिल्म: रॉकस्टार
गायक: मोहित चौहान
गीत: इरशाद कामिल
संगीत: ए. आर. रहमान


फिर से उड़ चला 
उड़ के छोड़ा है जहां नीच में तुम्हारे अब हूँ हवाले 
दूर दूर लोग बाग़ मीलों दूर यह वादियाँ
घर धुंआ धुंआ तन हर बदली चली आती है चुने 
और कोई बदली कभी कही कर दे तन गीला यह है बिना हो 
किसी मंज़र पर मैं रुका  नहीं 
कभी खुद से भी में मिला नहीं 
यह गिला तोह है मैं खफा नहीं 
शहर एक से गाँव एक से लोग एक से नाम एक हूँ ..
फिर से उड़ चला मैं 
मिटटी जैसे सपने यह कितना भी पलकों से झाडो फिर आ जाते हैं 
इतने सारे सपने किसे कहूं 
किस तरह से मैंने तोड़े हैं चोदे हैं क्यूँ 
फिर साथ चले मुझे ले के उड़े यह क्यूँ हूँ ..

कभी डाल डाल कभी पात पात 
मेरे साथ साथ फिर दर दर यह 
कभी सेहेर कभी सावन 
बनू रावण क्यूँ मण मनके 
कभी डाल  डाल  कभी पात पात 
कभी दिन है रात कभी दिन्मिन है 
कया सच है कया माया है दाता है दाता 

इधर ऊधर तितर बितर 
कया है पता हवा लिए जाये तेरी और 
खींचे तेरी यादें तेरी यादें तेरी और 

रंग बिरंगे ?? में मैं उदास क्यूँ - २ 
ओ .. हो हो .....