साजन साजन पुकारू गलियों में

हिंदी फ़िल्में > साजन(१९६९) के गाने > साजन साजन पुकारू गलियों में

गाना: साजन साजन पुकारू गलियों में
फिल्म: साजन(१९६९)
गायक: लता मंगेशकर, मोहम्मद रफ़ी
गीत:
संगीत: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल


साजन साजन 
साजन साजन पुकारू गलियों में - (2)
कभी फूलों में ढुंढू कभी कलियों में 
साजन साजन पुकारू गलियों में
साजन साजन आ हा, के साजन साजन पुकारू गलियों में

ऐसे रूठा है बेदर्दी कहाँ ना माने - (2) 
मेरे दिल की मेरी जान की कदर ना जाने 
मैं उसी जुल्मी के नैना मस्ताने 
कभी फूलों में ढुंढू कभी कलियों में कभी कलियों में 
साजन साजन पुकारू गलियों में
साजन साजन आ हा, के साजन साजन पुकारू गलियों में

बुलबुल समझे फुलो का है ये दिल मस्ताना
भंवरे समझे कलिओ से है मेरा याराना
मै तो आपना रुठा साजन दिवाना
कभी फूलों में ढुंढू कभी कलियों में कभी कलियों में 
साजन साजन पुकारू गलियों में
साजन साजन आ हा, के साजन साजन पुकारू गलियों में

मुझसे कहती है परबत पे घटा छा छा के - (2) 
ओ रामा हसती है पूरब से हवा आ आके 
वो छिपा है दिल में और ना जान जान के 
कभी फूलों में ढुंढू कभी कलियों में कभी कलियों में 
साजन साजन पुकारू गलियों में
साजन साजन आ हा, के साजन साजन पुकारू गलियों में