मुझे तेरी आँखो की गहराई में डूबने दे

हिंदी फ़िल्में > पाठशाला के गाने > मुझे तेरी आँखो की गहराई में डूबने दे

गाना: मुझे तेरी आँखो की गहराई में डूबने दे
फिल्म: पाठशाला
गायक: तुलसी कुमार, आकांशा लामा, हनीफ़ शैख़
गीत: हनीफ़ शैख़
संगीत: हनीफ़ शैख़


मुझे तेरी आँखो की गहराई में डूबने दे 
मुझे तेरी बाहों की जन्नत में खोने दे 
तेरे बिना यह जीवन जैसे सुना सपना 
तेरे बिना तुझको हर पल ढुंडे यह दिल मेरा 
मुझे तेरी आँखो की गहराई में डूबने दे 
ना ना नही जाना प्यार क्या, नही जाना होता है यह इन्तजार क्या 
तेरी आँखों ने सब कुछ कहाँ, क्यूँ ना कहें तेरी जुबान 
माना माना मैंने प्यार है, कैसे छाया देखो मुझपे खुमार है
मेरे संग जमीं और आसमान, फिर क्यूँ है खोयी मेरी हर दिशा 
मुझे तेरी आँखो की गहराई में डूबने दे 
मुझे तेरी बाहों की जन्नत में खोने दे 

तेरे बिना, तेरे बिना हर पल लगे सुना सा 
इक तुझसे ही बनता मेरा जहां प्यारा प्यारा
देदो ना मुझको वो हर ख़ुशी हाँ कहना है मुझसे यह दिल मेरा 
मुझे तेरी आँखो की गहराई में डूबने दे 
मुझे तेरी बाहों की जन्नत में खोने दे 

हर जर्रे में हर जगह में महसूस कराती हूँ मैं
इक तुझको ही, हाँ तुझको ही महफूज़ रखती हूँ
मैं ख्यालों में दिल में मेरी साँसों में गुनगुनाती हूँ तुझको हर बात में 
मुझे तेरी आँखो की गहराई में डूबने दे 
मुझे तेरी बाहों की जन्नत में खोने दे 

ना ना ना नं ना ना .........
ना ना ना नं ना ना .........