एक चंचल शोख हसीना

हिंदी फ़िल्में > बाघी - ए रेबेल फॉर लव के गाने > एक चंचल शोख हसीना

गाना: एक चंचल शोख हसीना
फिल्म: बाघी - ए रेबेल फॉर लव
गायक: कविता कृष्णामूर्ति
गीत: समीर
संगीत: मिलिंद


एक चंचल शोख हसीना मेरे सपनो में आये
मुझे एक झलक दिखला के वोह मेरे दिल का चैन हराए

होंठो से मदिरा चलके गालो पे हैं अंगारे
फूलो के जैसी खिलती जवानी नैना नशीले हैं कजरारे
जैसे की नागिन डोले ऐसे चले बलखाके
मदहोश कर दे मुझको जो वोह शर्मा के
कभी खुले जो जुल्फे उसकी घटा सी छाये
एक चंचल शोख हसीना..........

झील में खिलता एक कमल वोह है किसी शायर की घझाल
बहे उठा के ले अंगडाई दिल में मचा दे हलचल
परियो की वोह शेह्जादी चेहरा है भोला भाला
देखा है जब से उसको मई हो गया मतवाला
यही दुवाए मंगू हर पल वोह मुझको मिल जाये
एक चंचल शोख हसीना..........